BLOGSMANCH. Powered by Blogger.

आवश्यक सूचना!

ब्लॉगमंच में अपने ब्लॉग शामिल करवाने के लिए निम्न ई-मेल पर अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. भेज दीजिए। roopchandrashastri@gmail.com

मुक्तक "वही उद्यान होता है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

Sunday, February 20, 2022

जहाँ पर फूल खिलते हों, वही उद्यान होता है 
किसी के तोड़ना दिल को, बहुत आसान होता है 
सभी को बाँटती खुशियाँ, कली जब मुस्कराती है 
सभी को रूप पर उसके, बहुत अभिमान होता है 

10 comments:

Bharti Das said...

बहुत सुंदर प्रस्तुति 👌👌

आतिश said...

नन्हीं सी पर दिल को छूने वाली रचना
सुन्दर !

Unknown said...

बहुत खूब,आशा करता हु आप हमारी साइट Hindi Talks में भी थोड़ा योगदान दे

Sarita sail said...

सुन्दर

Sahanaj Khan said...

Hi, their colleagues, nice paragraph and nice arguments commented here, I am really enjoying by these.

bsc part 1 ka result

New Games said...

It's very nice article. Thanks for sharing. Don't miss WORLD'S BEST GAME

Laila Thakur said...

I am very thankful to you for providing such a great information. It is simple but very accurate information.bsc 1st year result roll number wise

Vijay Bishnoi said...

Good Post Visit My TechStag website.

नापतोल.कॉम से कोई सामान न खरीदें।

मैंने Napptol.com को Order number- 5642977
order date- 23-12-1012 को xelectron resistive SIM calling tablet WS777 का आर्डर किया था। जिसकी डिलीवरी मुझे Delivery date- 11-01-2013 को प्राप्त हुई। इस टैब-पी.सी में मुझे निम्न कमियाँ मिली-
1- Camera is not working.
2- U-Tube is not working.
3- Skype is not working.
4- Google Map is not working.
5- Navigation is not working.
6- in this product found only one camera. Back side camera is not in this product. but product advertisement says this product has 2 cameras.
7- Wi-Fi singals quality is very poor.
8- The battery charger of this product (xelectron resistive SIM calling tablet WS777) has stopped work dated 12-01-2013 3p.m. 9- So this product is useless to me.
10- Napptol.com cheating me.
विनीत जी!!
आपने मेरी शिकायत पर करोई ध्यान नहीं दिया!
नापतोल के विश्वास पर मैंने यह टैबलेट पी.सी. आपके चैनल से खरीदा था!
मैंने इस पर एक आलेख अपने ब्लॉग "धरा के रंग" पर लगाया था!

"नापतोलडॉटकॉम से कोई सामान न खरीदें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जिस पर मुझे कई कमेंट मिले हैं, जिनमें से एक यह भी है-
Sriprakash Dimri – (January 22, 2013 at 5:39 PM)

शास्त्री जी हमने भी धर्मपत्नी जी के चेतावनी देने के बाद भी
नापतोल डाट काम से कार के लिए वैक्यूम क्लीनर ऑनलाइन शापिंग से खरीदा ...
जो की कभी भी नहीं चला ....ईमेल से इनके फोरम में शिकायत करना के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकला ..
.हंसी का पात्र बना ..अर्थ हानि के बाद भी आधुनिक नहीं आलसी कहलाया .....

बच्चों के ब्लॉग
ब्लॉगों की चर्चा/एग्रीगेटर

My Blog List

तकनीकी ब्लॉग्स

My Blog List

हास्य-व्यंग्य

My Blog List