BLOGSMANCH. Powered by Blogger.

आवश्यक सूचना!

ब्लॉगमंच में अपने ब्लॉग शामिल करवाने के लिए निम्न ई-मेल पर अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. भेज दीजिए। roopchandrashastri@gmail.com

"आखिर अन्य धर्मों के लोग कहाँ जाएँ" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

Friday, May 27, 2011

मैंने मुशायरे सुने हैं!
बहुत अच्छा लगता है जब यह सुनता हूँ!
"सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा!"
क्या यह प्यारा देशभक्ति गीत किसी हिन्दू ने लिखा था?
क्या हिन्दुओं के अतिरिक्त अन्य धर्मों के लोगों का कोई और देश है?
क्या देश भक्ति का ज़ज़्बा केवल हिन्दुओं के ही मन में है?
ऐसे बहुत से प्रश्न मन में कौंधते हैं!
हम लोग ब्लॉगिंग करते हैं तो इन सब बातों को भूल जाते हैं!
इतनी सारी भूमिका बाँधने का मुझे कोई शौक नही चर्राया है!
मित्रों कल मैंने बच्चों के ब्लॉग नन्हें सुमन पर एक स्वागत गीत पोस्ट किया था!

"स्वागत गीत" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

>> 27 MAY, 2011

लगभग 26 वर्ष पूर्व मैंने एक स्वागत गीत लिखा था। 
यह मेरा सौभाग्य है कि उत्सवों में आज भी 
क्षेत्र के विद्यालयों में इसको गाया जा रहा है!
स्वागतम आपका कर रहा हर सुमन।
आप आये यहाँ आपको शत नमन।।

भक्त को मिल गये देव बिन जाप से,
धन्य शिक्षा-सदन हो गया आपसे,
आपके साथ आया सुगन्धित पवन।
आप आये यहाँ आपको शत नमन।।....

जिस पर बहुत सी टिप्पणियाँ आई मगर इनमें एक टिप्पणी ऐसी भी थी
जिसने मुझे झकझोर कर रख दिया और यह टिप्पणी थी श्रीमान वेद व्यथित जी की!
देख लीजिए आप भी इस टिप्पणी को!
vedvyathit २७ मई २०११ १०:०० अपराह्न  
ji han dusht ghotale baj v mkkar netaon ke liye hi to yh gaya jata hai jo school ki pryog shala se le kr mootraaly tk ka udghatn krte hain

इसके उत्तर में मैंने प्रति टिप्पणियाँ यह की थीं


डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) २७ मई २०११ १०:१५ अपराह्न  
वेद व्यथित जी!
आपसे ऐसे घटिया कमेंट की आशा नही थी, 
वो भी बच्चों के ब्लॉग पर!


डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) २७ मई २०११ १०:२० अपराह्न  
आज तक तो आप कभी इस ब्लॉग पर आये नहीं 
और आये तो इस प्रकार के कमेंट की बानगी लेकर!


इसके बाद vedvyathit  जी चैट पर दिखाई दिए!


देख लीजिए इनकी वार्ता का नमूना!




डॉ. रूपचंद्र शास्त्री "मयंक" Anwer
विवरण दिखाएँ १०:४० अपराह्न (8 घंटों पहले)

vedvyathit मुझे
विवरण दिखाएँ १०:३३ अपराह्न (5 मिनट पहले)
१०:२१ अपराह्न मुझे: नमस्कार
 vedvyathit: bndhuvr sadr prnam
  bndhuvr sadr prnam
 मुझे: आप तो जाने माने सहृदय साहित्यकार हैं
१०:२२ अपराह्न vedvyathit: yh aap ka bddpnhai main khan sahitykar hoon
 मुझे: फिर बच्चों के ब्लॉग पर ऐसा घटिया कमेंट क्यों
 vedvyathit: kya yh vasvikta nhi hai
१०:२३ अपराह्न मुझे: तो क्या स्वागत गान न गायें बच्चे! अतिथियों को जूते मारें क्या
 vedvyathit: jaise narayn dtt tivari ji ka test hona hai aise hi to neta hai aur ye hi to krndhar hain
१०:२४ अपराह्न aaj atithi kaun hain aap ko bhi pta hai bchcho ko is se door kyon n rkha jaye
 मुझे: आप तो दूध के धुले हुए होगे
  अतिथि की परिभाषा तो आप जानते होंगे
 vedvyathit: bchchon ka yh durpyog hai koi neta aaye bchcho ko khda kr dete hai swagt me aur prbndhk apne kam nikalte hain
१०:२६ अपराह्न मुझे: आप सब्यता के नाम पर क्या सिखाना चाहेंगे, बच्चों को
  सभ्यता
१०:२७ अपराह्न हम तो आपका बहुत सम्मान करते थे, मगर पहली ही मुलाकात अच्ची नहीं रही
१०:२८ अपराह्न vedvyathit: yh kaun si nsbhyta hai ki bchhcon se gundon ka swagt krvao
 मुझे: क्या सब गुमडे ही हैं
  क्या सब गुण्डे ही हैं
१०:२९ अपराह्न vedvyathit: neta ka shiksha ke mndir me kya kam aap shastri ji hain purano me vrnn hai ki raja aashrm me ghusne pr apni svari bhi chhod deta tha aur paidl chl kr jata tha
  pr swgt gan sb ke hote hain
१०:३० अपराह्न मुझे: मगर इस स्वागत गान में तो नेताओं का नाम भी नहीं है
 vedvyathit: pr aap ka yh git asli free pr aaya hai n ki blog pr vhi se khula hai
१०:३१ अपराह्न aur bchhco ko is me kyon ghsita jye
१०:३२ अपराह्न मुझे: आपने असली फ्री पर कमेंट किया है या नन्हेसुमन बच्चों के ब्लॉग पर!
 vedvyathit: kya aap vrtman dsha se prichit nhi hai aap ko to yh geet aise netaon ke swagt se vapis le lena chahiye kyon ki yh aap ke geet ki tauhin hai jo aise logo ke liye gya jaye
१०:३३ अपराह्न main asli f.. pr hi likhna char rha tha pr vhan khula nhi aur yh khul gya
 मुझे: ठीक है! आप आप ही रहेंगे! मैं छोटी प्ज्ञा का हूँ!
 vedvyathit: asli free pr bhut kuchh aa rha hai shyd vh bhi aap jroor pdh rhe honge
 मुझे: आपका और मेरा क्या मुकाबला!
१०:३४ अपराह्न vedvyathit: bndhu vaicharik bhed ho skte hain pr aap mn bhed kyon kr rhe hain
१०:३५ अपराह्न kya vrtman me bhart ki dsha shochniy nhi hai kya hindoon ko hr trh se nicha nhi dikhaya ja rhja hai aap is pr bhi vichar prkt kren
 मुझे: वैचारिक मतभेद पर बात करने के लिए ब्लॉग सही जगह नहीं है! मेरे मेल में लिखते इस बात को! तो मैं आपको कुछ नहीं कहता!
१०:३६ अपराह्न vedvyathit: aap ko sb kuchh khne ka adhikar hai aap aayu me bde hain aadrniy hain
 मुझे: मैं जाति धर्म पर बात नहीं करना चाहता हूँ! अन्य धर्मों के लोग आखिर भारत से जाएँगे कहाँ!
१०:३७ अपराह्न vedvyathit: kya bki log kr skte hain ek hindoo nhi kr skta kyon
  shrm aati hai kya
 मुझे: शुभरात्रि! मान्यवर!
 vedvyathit: bhut 2 sadr prnam
यदि इस श्रेणी के साहित्यकार अपना साहित्य देंगे तो क्या भारत की अखण्डता अक्षुण्ण रह पाएगी?मैं कठोर शब्दों में इस प्रकार की संकुचित सोच रखने वाले लोगों की भर्त्सना करता हूँ! चाहे वे कितने भी महान साहित्यकार क्यों न हों!









13 comments:

इस्मत ज़ैदी said...

MAANYAVAR ,
kshma chahti hoon kuchh technical problem ki wajah se hindi men nahin likh paa rahi hoon

main aap ki baaton se poorntaya sahmat hoon ,,,aap ke vichaar aap ke prati aadar ko aur badhate hain ,,,
sahitykar ka kartavya hai ki wo apni rachnaon ke dwara logon ko jodne ka kam kare n ki todne ka ,,,
vyathit ji ne to sach men vyathit kar diya ,,charcha apni raah se hat kar hindu-ahindu tak kaise aa gaee ??
bachchon ke blog par aise shabdon ka istemal kya unhen sahi lagta hai ?

"ham nai nasl ko de paaen to ho farz ada
jo ki ajdad ne saunpi thi virasat ham ko "
kya hamare buzurgon ne ye virasat saunpi thi hamen ??

aap kaa geet bahut sundar hai badhaai sweekar karen

शिवम् मिश्रा said...

अति दुर्भाग्‍यपूर्ण।

Arunesh c dave said...

एसी स्थिती तो आनी ही नही चाहिये थी आप को तत्काल कमेंट हटा देना था । कुच दोष हमारे नेताओ का भी है आज से २६ साल पहले आपने जिन नेताओ के लिये यह गीत बनाया था अब वो रहे ही नही और जो वेदो से ही व्यथित हो उनसे क्या चर्चा करनी मेरे ब्लाग मे आकर मुझे दुष्ट कह गये मैने भी कमेंट हटाया नही है लोग पढ़ेंगे तो थोड़ा मनोरंजन हो जायेगा

डॉ. जेन्नी शबनम said...

आदरणीय रूपचंद्र जी,
मेल पढ़ी. कोई शिक्षित इंसान इस तरह साम्प्रदायिकता की बात करता है ऐसे में उसे क्या कहा जाए? मैं नहीं जानती कि ये 'वेद व्यथित' जी कौन हैं, पर आपसे उनका वार्तालाप पढ़कर निश्चित हीं उनकी बुद्धि पर तरस आता है. ये तथाकथित हिन्दू ''हिन्दू'' किसे कहते ये भी नहीं जानते. अफ़सोस होता है इन लोगों की मानसिकता पर. जहां तक नेताओं की बात है तो हमारे शिक्षण संस्थान में जब वो पधारते हैं तो वो अतिथि होते हैं, न की सिर्फ एक नेता, ऐसे में स्वागत गान तो होना उचित हीं है, भले हीं वो कितने भी भ्रष्ट नेता क्यों न हो. यह एक अलग विषय है कि ऐसे भ्रष्ट नेता कैसे बने या क्यों है या बुलाये क्यों गए. हमारी भारतीय परंपरा में अतिथि का सम्मान किया जाता है चाहे वो जो कोई हो. आपका स्वागत गान बहुत हीं सुन्दर है.
ऐसे लोगों की प्रतिक्रिया को हटा देना उचित है.
सादर
जेन्नी

veerubhai said...

भाषा गत गरिमा तो हर प्रहर हर घडी हर जगह ज़रूरी है .वही व्यक्ति का असली परिचय है पद प्रतिष्ठा चेहरा मोहरा नहीं असली अलंकरण भाषिक ही होता है ।
इसीलिए तो उक्ति है -
ऐसी बाणी बोली मन का आपा खोय ,औरन को शीतल करे आपहु शीतल होय .

veerubhai said...

भाषा गत गरिमा तो हर प्रहर हर घडी हर जगह ज़रूरी है .वही व्यक्ति का असली परिचय है पद प्रतिष्ठा चेहरा मोहरा नहीं असली अलंकरण भाषिक ही होता है ।
इसीलिए तो उक्ति है -
ऐसी बाणी बोली मन का आपा खोय ,औरन को शीतल करे आपहु शीतल होय .

veerubhai said...

तुलसी बुरा न मानिए जो गंवार कह जाए .....
जो तोकू काँटा बुवे, वाही को बॉय तू फूल ,
तो कू फूल के फूल हैं ,वा कू हैं तिरशूल ।
दुनिया में किस्म किस्म के जीव हैं ,होमो -सेपियंस में भी कम विविधता नहीं है .कुछ का जैविक विकास हो चुका है कुछ अभी विकास की आदिम अवस्था में हैं .प्रजातंत्र का यही तो फायदा है सबको ढोता है सबसे उघाई करता है .अपने मानवाधिकार वादी भी ऐसे ही हैं इनकी नज़र में दहशत गर्दों के भी मानवाधिकार हैं .बलात -कारियों के भी और कुछ लोग तो शब्दों से ही काम कर जातें हैं बलात्कार का .(ज़ारी ..)

अवध टाइम्स said...

बहुत ही अच्छी कविता है. आप भी न कमाल लिखते हैं.
हीरा हैं आप. :D

Vivek Jain said...

लोगों ने तो सीता को भी नहीं छोड़ा, क्या फर्क पड़ता है,
आपका गीत बहुत सुन्दर है!
सादर-
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

Maheshwari kaneri said...

बहुत दुख हुआ....

रजनी मल्होत्रा नैय्यर said...

sir, waise to 1,2 log nikal hi jate hain jo apni budhi ka pryog har jagah karna chate hain . chahe wo sthali bacchon se sambndhit ho ya samprdayikta ka jati pati ka .... aapse ab hi jud payi hun jyada aapki rachna bhi padhi sasskt lekhni hai aapki .......... naman

Anonymous said...

buy tramadol 100mg tramadol legal to buy online - tramadol 50mg hcl high

नापतोल.कॉम से कोई सामान न खरीदें।

मैंने Napptol.com को Order number- 5642977
order date- 23-12-1012 को xelectron resistive SIM calling tablet WS777 का आर्डर किया था। जिसकी डिलीवरी मुझे Delivery date- 11-01-2013 को प्राप्त हुई। इस टैब-पी.सी में मुझे निम्न कमियाँ मिली-
1- Camera is not working.
2- U-Tube is not working.
3- Skype is not working.
4- Google Map is not working.
5- Navigation is not working.
6- in this product found only one camera. Back side camera is not in this product. but product advertisement says this product has 2 cameras.
7- Wi-Fi singals quality is very poor.
8- The battery charger of this product (xelectron resistive SIM calling tablet WS777) has stopped work dated 12-01-2013 3p.m. 9- So this product is useless to me.
10- Napptol.com cheating me.
विनीत जी!!
आपने मेरी शिकायत पर करोई ध्यान नहीं दिया!
नापतोल के विश्वास पर मैंने यह टैबलेट पी.सी. आपके चैनल से खरीदा था!
मैंने इस पर एक आलेख अपने ब्लॉग "धरा के रंग" पर लगाया था!

"नापतोलडॉटकॉम से कोई सामान न खरीदें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जिस पर मुझे कई कमेंट मिले हैं, जिनमें से एक यह भी है-
Sriprakash Dimri – (January 22, 2013 at 5:39 PM)

शास्त्री जी हमने भी धर्मपत्नी जी के चेतावनी देने के बाद भी
नापतोल डाट काम से कार के लिए वैक्यूम क्लीनर ऑनलाइन शापिंग से खरीदा ...
जो की कभी भी नहीं चला ....ईमेल से इनके फोरम में शिकायत करना के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकला ..
.हंसी का पात्र बना ..अर्थ हानि के बाद भी आधुनिक नहीं आलसी कहलाया .....

बच्चों के ब्लॉग
ब्लॉगों की चर्चा/एग्रीगेटर

My Blog List

तकनीकी ब्लॉग्स

My Blog List

हास्य-व्यंग्य

My Blog List